Top 10 Best Paisa Shayari in Hindi

कुछ को सौ में तो कुछ को हज़ारों में, इंसान और इंसानियत को बिकते देखा है मैंने बाज़ारों में

कुछ लोग ख़्वाब खरीदने के लिए नींद बेच देते हैं, कुछ लोग ज़मीन खरीदने के लिए ज़मीर बेच देते हैं

दूर रहने वालों को भी संग कर देता है, जब पैसा बोलता है सबकी बोलती बंद कर देता है

रंग पैसे ने अपना कुछ ऐसा जमाया है, की इंसान भूल गया पैसे ने उसे नहीं उसने पैसे को बनाया है

पैसा पूछता नहीं कर्म इंसान का, पर इंसान पूजता है पैसा जैसे हो धर्म इंसान का

ये जो पैसों के लिए किसी को भी छोड़ देते हैं याद रखना दोस्त पैसा किसी का नहीं होता

जिसके पास पैसा होता है उनके सब क़रीब होते है, उनका कोई नहीं होता जो गरीब होते हैं

पैसा इंसान को ऊपर ले जा सकता है, पर इंसान पैसे को ऊपर नहीं ले जा सकता

किसी को सच या झूठ नहीं दिखता, पैसों के आगे किसी को कुछ नहीं दिखता

वक़्त देखते-देखते ज़िन्दगी बेवक़्त हो गई, पैसे कमाने में ज़िन्दगी खर्च हो गई